बाहों में काली पट्टी बांधकर किया सरकार की नीतियों का विरोध

Spread the love

बागेश्वर। तीन सूत्रीय मांगों को लेकर उपनल कर्मचारियों का चरणबद्ध आंदोलन शुरू हो गया है। मंगलवार को उन्होंने बांह में काली पट्टी बांधकर सरकार की नीतियों
का विरोध किया। एक सप्ताह तक कर्मचारी इसी तरह से विरोध जताते हुए काम करेंगे। अगले चरण से आंदोलन को तेज किया जाएगा। कर्मचारियों ने जल्द सभी
समस्याओं का निदान नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने की भी चेतावनी दी। उपनल कर्मचारी संघ की जिला इकाई ने संगठन प्रदेश मंत्री के नेतृत्व में आंदोलन की
शुरुआत की। सभी कर्मचारियों ने काला फीता बांधकर रोजाना की तरह काम किया। प्रदेश मंत्री ने बताया कि कर्मचारी न्यायालय के आदेश के तहत यथावत
नियमितीकरण, समान कार्य का समान वेतन और हटाए गए उपनल कर्मचारियों को बहाल करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। बताया कि पहले सप्ताह
सभी कर्मचारी बाहों में काली पट्टी बांधकर विरोध जताएंगे। दूसरे हफ्ते में पूर्व सैनिक, आश्रित और शहीद परिजनों के सदस्य सीएम को पत्र भेजेंगे। तीसरे हफ्ते में
सभी जनप्रतिनिधियों को ज्ञापन दिया जाएगा। चैथे हफ्ते कर्मचारी न्याय के देवता गोलू देव के दरबार में जाकर न्याय की गुहार लगाएंगे। इसके बाद भी अगर मांगों
को लेकर कर्रवाई नहीं हुई तो बेमियादी हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने सभी कर्मचारियों से आंदोलन के दौरान कोविड-19 की गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन
करने को भी कहा। आंदोलन में शिक्षा, स्वास्थ्य, बाल विकास, उच्च शिक्षा सहित सभ्ज्ञी विभागों के उपनल कर्मचारियों ने भागीदारी की। इधर जिला मुख्यालय में
कर्मचारियों ने सरकार की नीतियों के विरोध में प्रदर्शन भी किया। इस मौके पर प्रवीण कुमार, कपिल, भूपेंद्र सिंह, गंगा भाकुनी, महिपाल सिंह, चंद्रशेखर जोशी, दर्वान
सिंह, हयात राम, शाहरूख हुसैन आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!