चीन की हर हिमाकत का मिलेगा करारा जवाब, भारतीय सेनाओं ने शुरू किया ’चीता प्रोजेक्ट’ पर काम

Spread the love

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ जारी गतिरोा के बीच भारतीय सेनाएं अपनी ताकत में इजाफा करने में जुटी हैं। सेनाएं लेजर गाइडेड बमों से लैस हेरोन ड्रोन हासिल करने के प्रोजेक्घ्ट पर काम कर रही हैं। सेनाओं की कोशिश दुश्मन के ठिकानों और बख्तरबंद वाहनों को घ्वस्त करने के लिए एंटी-टैंक मिसाइलें हासिल करने की है। चीता नाम का यह खरीद प्रोजेक्घ्ट लंबे समय से लंबित था जिसे दुश्घ्मन देशों की ओर से बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सशस्त्र बलों द्वारा पुनर्जीवित किया गया है। इस खरीद पर 3,500 करोड़ रुपये से अािक की लागत आएगी।
सूत्रों के हवाले से बताया है कि इस प्रोजेक्घ्ट के तहत तीनों सेनाओं के लगभग 90 हेरन ड्रोनों को लेजर गाइडेड बमों से लैस किया जाएगा। यही नहीं हवा से जमीन पर और हवा से मार करने वाली एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों की भी खरीद होगी। यह प्रोजेक्घ्ट उच्च स्तरीय रक्षा मंत्रालय निकाय द्वारा हैंडल किया जा रहा है। इसमें रक्षा सचिव अजय कुमार भी शामिल हैं। अजय कुमार तीन सेवाओं के लिए हथियारों की खरीद के प्रभारी भी हैं।
इस प्रस्घ्ताव में सशस्त्र बलों ने दुश्मन के ठिकानों पर नजर रखने और जरूरत पड़ने पर हमले के लिए टोही ड्रोनों को हैवी पेलोड से लैस करने का भी प्रस्ताव दिया गया है। इस परियोजना से तीनों सेनाओं की र्सिवलांस क्षमता के साथ ही हमला करने की ताकत में इजाफा होगा। वैसे तीनों सेनाएं पहले से ही लद्दाख सेक्टर में र्सिवलांस हेरन अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) का इस्तेमाल कर रही हैं। मयम एल्घ्टीट्यूड वाले इन ड्रोनों के भारतीय बेड़े को मानवरहित हवाई वाहनों के रूप में भी जाना जाता है। इनमें मुख्य रूप से इजरायल के हेरन ड्रोन शामिल हैं।हेरन ड्रोनों की खासियत है कि ये दुश्घ्मन के ठिकानों की टोह लेने के साथ ही उसके ठिकानों को नेस्घ्तनाबूंद करने की क्षमता भी रखते हैं। मौजूदा वक्घ्त में पूर्वी लद्दाख के दुर्गम इलाकों में भी ये ड्रोन यही काम कर रहे हैं। ये चीनी सेना के ठिकानों और उसके बिल्घ्डअप की सटीक जानकारी दे रहे हैं। आक्रामक अपरेशनों को अंजाम देने के लिए इन ड्रोनों को अपग्रेड किया जाना बेहद जरूरी है ताकि बिना किसी नुकसान के दुश्मन के ठिकानों को घ्वस्घ्त किया जा सके। चीता परियोजना के जरिए अपग्रेडेशन की प्रक्रिया के साथ ही घातक हथघ्यिारों की खरीद करना शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!