कोरोना की नई स्घ्ट्रेन से दुनियाभर में हड़कंप, इटली, अस्ट्रेलिया, फ्रांस समेत कई देशों में फैला नया वायरस, सऊदी ने बंद की सीमाएं

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। कोरोना वायरस की नई म्यूटेटेड यानी उत्घ्परिवर्तित स्ट्रेन मौजूदा वक्घ्त में केवल ब्रिटेन की सरहद तक सीमित नहीं रह गई है।रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका ने कहा है कि देश में कोविड-19 के नए प्रकार के वायरस के चलते संक्रमितों के मामले में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। स्पुतनिक के हवाले से बताया है कि फ्रांस में इसके पहले से ही फैलने की आशंका जताई जा रही है। यही नहीं समाचार एजेंसी रयटर की रिपोर्ट कहती है कि अस्ट्रेलिया में नई स्ट्रेन के दो कंफर्म मामले सामने आए हैं।
सऊदी अरब ने अस्थायी तौर पर सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। गृह मंत्रालय ने कहा कि फिलहाल यह प्रतिबंध सात दिनों तक प्रभावी रहेगा और चिकित्सकों की सलाह पर इसे आगे भी बढ़ाया जा सकता है। वायरस के नए प्रकार को रोकने के लिए सऊदी अरब ने देश की सीमाओं और बंदरगाहों को भी एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया है। सऊदी सरकार ने पिछले तीन महीनों के दौरान यूरोपीय देश से आए लोगों को तुरंत कोरोना टेस्ट कराने को कहा है। नए प्रतिबंधों का असर कार्गो विमान सेवा और सप्लाई चेन पर नहीं पड़ेगा।
इन देशों ने उड़ानों पर लगाई रोक
वायरस का यह नया प्रकार पहले से 70 फीसद अधिक संक्रामक है। वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है। फ्रांस, जर्मनी, इटली, बेल्जियम, डेनमार्क, बुल्गारिया, द आयरिश रिपब्लिक, तुर्की, कनाडा, हांगकांग, ईरान, क्रोएशिया, अर्जेटीना, चिली, मोरक्को और कुवैत ने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंधों का एलान किया है। इजरायल ने सिर्फ ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर ही रोक नहीं लगाइ है बल्कि डेनमार्क और दक्षिण अफ्रीका से आने वाली उड़ानों पर भी प्रतिबंध का एलान किया है।
नया स्ट्रेन ज्यादा घातक नहीं: मूर्ति
भारतीय मूल के अमेरिकी डक्टर विवेक मूर्ति ने कहा है कि फिलहाल इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिला है कि इंग्लैंड में मिला कोरोनावायरस का नया स्ट्रेन ज्यादा घातक है। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा देश के नए सर्जन जनरल नामित किए गए 43 वर्षीय मूर्ति ने कहा कि यह मानने का कोई कारण नहीं है कि कोरोना के लिए बनाए गए टीके नए स्ट्रेन के खिलाफ प्रभावी नहीं होंगे।
बचाव एकमात्र तरीका: हैनकक
ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जनसन स्थिति का जायजा लेने के लिए सोमवार को बुलाई गई सरकार की आपातकालीन समिति की बैठक की अध्यक्षता करेंगे। उधर, यूरोपीय यूनियन से जुड़े देश भी ब्रसेल्स में बैठक कर सकते हैं। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकक ने कहा है कि टियर-4 इलाकों में रहने वाले लोगों को इस तरह से व्यवहार करना चाहिए कि उनके पास वायरस हो सकता है। यही एकमात्र तरीका है, जिससे हम इसे नियंत्रण में रख सकते हैं। स्थिति बहुत गंभीर है और वायरस के नए प्रकार ने इसे और अधिक कठिन बना दिया है। बता दें कि टियर-4 सबसे कड़ा प्रतिबंध है, जिसे ब्रिटेन के कुछ इलाकों में लगाने का एलान किया गया है।
बहुत तेजी से फैल रहा नया प्रकार
लंदन स्थित इंपीरियल कलेज के ड़ एरिक वोल्ज ने कहा कि फिलहाल जो दिखाई दे रहा है, उसके मुताबिक यह बहुत तेजी से फैल रहा है। इस पर नजर बनाए रखने की जरूरत है। उधर, ब्रिटिश सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार पैट्रिक वालेंस ने कहा कि इसकी मौजूद्गी अन्य देशों में भी हो सकती है, लेकिन इसकी शुरुआत ब्रिटेन से हुई है।
नए स्ट्रेन में 23 तरह के परिवर्तन
परिवहन मंत्री ग्रांट शैफ्स ने कहा कि वायरस के नए प्रकार में पुराने के मुकाबले 23 तरह के परिवर्तन देखने को मिले रहे हैं। अधिकांश परिवर्तन वायरस में मिलने स्पाइक प्रोटीन से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन ने दूसरे देशों में मौजूद वायरस के म्यूटेशन का सबसे अच्छा वैश्विक विश्लेषण किया है। उधर, रूस द्वारा बनाई गई कोरोना वैक्सीन नए स्ट्रेन में पूरी तरह असरदार है। यह दावा वैक्सीन विकसित करने वाली रशियन डायरेक्ट इंवेस्ट फंड के सीईओ किरिल दिमित्रेव ने किया है।
विपक्ष ने उठाए जनसन पर सवाल
विपक्षी लेबर पार्टी के नेता कीर स्टारमर ने प्रधानमंत्री बोरिस जनसन पर घोर लापरवाही का आरोप लगाया है और कहा है कि उन्हें महामारी से निपटने में कोताही बरतने के लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन के लोग जनसन की अक्षमता, अनिर्णय और कमजोर नेतृत्व की कीमत चुका रहे हैं।
वायरस के नए स्ट्रेन फैलने की खबर का इंग्लैंड के शेयर बाजार पर बुरा प्रभाव पड़ा। ब्लू चिप शेयर तीन सप्ताह के निचले स्तर पर चले गए। शुरुआती कारोबार में एफटीएसई100 दो दिसंबर के बाद सबसे निचले स्तर पर चला गया था, लेकिन बाद में हालात संभले और यह 1़2 फीसद पर जाकर संभला। यूरोपीय देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों से तेल के दाम तीन फीसद से अधिक गिरने से बीपी और रयल डच शेल को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।
इटली में भी पहुंचा नया वायरस
इटली में ब्रिटेन से लौटे दो यात्रियों (पति-पत्नी) में कोरोना की नई स्घ्ट्रेन की पुष्टि हुई है। इनकी फ्लाइट रोम के फिमिसिनो हवाई अड्डे पर लैंड हुई थी। एयरपोर्ट पर उनके संपर्क में आए लोगों को कोरोना की जांच कराने के साथ बाकी कोरोना प्रोटोकल पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। पीडिघ्त जोड़ा आइसोलेशन में है। इटली ने पिछले 14 दिनों से ब्रिटेन में मौजूद लोगों के देश में आने पर प्रतिबंध लगा दिया है।
सबसे पहले बात करते हैं दक्षिण अफ्रीका की। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण अफ्रीका में नई स्घ्ट्रेन के चलते अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों और मृतकों की संख्या बढ़ रही है। वैज्ञानिकों के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए मामलों में 501़वी-2 के रूप में पहचाने गए नए वायरस के मामले प्रमुखता से पाए गए हैं। मंत्रिस्तरीय सलाहकार समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर सलीम अब्दुल करीम का कहना है कि संक्रमण की दूसरी लहर में नया वायरस हावी हो रहा है।
समाचार एजेंसी के मुताबिक स्पुतनिक के हवाले से बताया है कि फ्रांस में कोरोना की नई स्घ्ट्रेन के पहले से ही फैलने की आशंका है। फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री अलीवर वेरान ने कहा कि नई स्घ्ट्रेन बेहद संक्रामक है। इस बात की पूरी आशंका है कि नया वायरस पहले से ही फ्रांस में फैल रहा है। हालांकि गनीमत की बात यह है कि अभी तक जीनोटाइप परीक्षणों में इसकी मौजूद्गी की पुष्टि नहीं हुई है। समाचार एजेंसी रयटर ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि अस्ट्रेलिया ने सोमवार को नई कोरोना स्घ्ट्रेन के दो मामलों की पहचान की। इसके साथ ही नए वायरस ने एशिश पेसिफिक क्षेत्र में भी दस्घ्तक दे दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दो मरीज कोरोना की नई स्घ्ट्रेन से संक्रमित पाए गए हैं। ये मरीज अस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स लौटे थे। दोनों क्वारंटीन हो गए हैं। हालांकि विशेषज्ञों ने वायरस के इस प्रकार को सिडनी में संक्रमण में आई तेजी की वजह नहीं माना है।
इस बीच कोरोना वैक्सीन बनाने वाली स्घ्पुतनिक-5 ने कहा है कि उसके द्वारा विकसित किया गया कोरोना का टीका उस नई कोरोना स्घ्ट्रेन पर भी काफी प्रभावी है जो यूरोप में पाई गई है। समाचार एजेंसी एएनआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, स्घ्पुतनिक ने अपने ट्विटर हैंडलर पर कहा कि हमारी वैक्घ्सीन यूरोप में पाए जाने वाले कोरोना वायरस के नए प्रकार के खिलाफ उतना ही प्रभावी होगी जितना कि मौजूदा कोविड-19 के खिलाफ। हालांकि दक्षिण अफ्रीका में पाई गई कोरोना की नई स्घ्ट्रेन को लेकर अभी कोई मुकम्मल जानकारी सामने नहीं आई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 का यह नया प्रकार ब्रिटेन में पाई गई नई स्ट्रेन से अलग है। सबसे बड़ी बात यह कि दक्षिण अफ्रीका में पाई गई नई स्ट्रेन मूल कोरोना वायरस की तुलना में अधिक संक्रामक है। वैसे दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिक इसका अध्ययन कर रहे हैं कि क्या कोविड-19 के खिलाफ अब तक के विकसित टीके नई स्घ्ट्रेन से भी सुरक्षा प्रदान करेंगे।
गौर करने वाली बात यह है कि अक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की ओर से विकसित की गई कोरोना वैक्घ्सीन समेत कुछ टीकों का क्लीनिकल परीक्षण दक्षिण अफ्रीका में जारी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि जब तक कोरोना का कोई मुकम्घ्मल समाधान नहीं खोज लिया जाता तब तक मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाने जैसे बचाव के उपाय ही महत्वपूर्ण हैं। नई स्घ्ट्रेन की दस्घ्तक के बाद दक्षिण अफ्रीका सरकार ने सख्त लकडाउन पाबंदियों की शुरुआत की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!