कोटद्वार में कोरोना का धमाका, विधायक के परिवार की एक महिला सहित तीन स्थानीय महिलाएं मिली कोरोना संक्रमित

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। लगभग साढ़े चार महीने से कोरोना से महफूज कोटद्वार में कोरोना वायरस कोविड-19 ने आखिरकार दस्तक दे ही दी। आज गुरूवार को कोटद्वार स्थित एक विधायक के परिवार में उनके छोटे भाई की पत्नी सहित कोटद्वार की तीन महिलाओं में कोरोना वायरस कोविड-19 की पुष्टि हुई है। खतरे की बात यह है कि ये तीनों महिलाएं कोटद्वार की स्थाई निवासी है और उनकी कोई टै्रवल हिस्ट्री भी नहीं है। जिससे कोरोना वायरस के लोकल ट्रांसमिशन होने का अंदेशा बन गया है।
राजकीय बेस अस्पताल के प्रमुख अधीक्षक डॉ. वीसी काला ने बताया कि आज गुरूवार को कोटद्वार क्षेत्र में निवास कर रहे क्षेत्र के एक विधायक के परिवार की 40 वर्षीय महिला में कोरोना वायरस की पुष्टि की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। डॉ. काला के अनुसार बीती 25 जुलाई को महिला में कोरोना के प्राथमिक लक्षण नजर आने पर उसे राजकीय बेस अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। 26 जुलाई को महिला का सैंपल लेकर कोरोना जांच के लिए एम्स ऋषिकेश भेजा गया। गुरूवार को महिला की जांच रिर्पोट कोरोना पॉजिटिव आई है। उन्होंने बताया कि एक माह पहले महिला जौलीग्रांट अस्पताल में अपने परिचित को देखने गई थी। किन्तु एक माह के बाद कोरोना वायरस संक्रमित होने पर जौलीग्रांट से इसका कोई तालुक नहीं हो सकता है। क्योंकि कोरोना वायरस अगर जौलीग्रांट से संक्रमित हुआ होता तो 14 दिन के अंदर उनमें कोरोना के लक्षण आ जाने चाहिए थे। अब यह नहीं कहा जा सकता है कि एक महीने तक अपने घर पर रहने वाली महिला में कोरोना का संक्रमण कैसे हुआ।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर में स्थापित वार रूम की रिपोर्ट के अनुसार कोटद्वार नगर निगम के मोटाढांक क्षेत्र में दो महिलाओं की कोराना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बता दें कि विगत 24 जुलाई को मोटाढांक क्षेत्र में एक युवक कोरोना संक्रमित मिला था। युवक के संपर्क में 37 और 54 वर्षीय दो महिलाएं आई। 25 जुलाई को दोनों महिलाओं में कोरोना के प्राथमिक लक्षण नजर आने पर कोविड केयर सेंटर कौड़िया में भर्ती कराया गया। 26 जुलाई को दोनों के सैंपल जांच के लिए भेजे गये। गुरूवार को दोनों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

विधायक परिवार के 13 लोगों को किया आइसोलेट
कोटद्वार क्षेत्र में निवास कर रहे एक विधायक के परिवार की 40 वर्षीय महिला में कोरोना वायरस की पुष्टि होने पर स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। महिला का बेस अस्पताल में उपचार चल रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा महिला के संपर्क में आये परिजनों को चिन्हित कर लिया गया है। राजकीय बेस अस्पताल के प्रमुख अधीक्षक डॉ. वीसी काला ने बताया कि महिला के सम्पर्क में आये परिवार के 13 लोगों को चिन्हित कर बेस अस्पताल में आइसोलेट कर दिया है। सभी के सैंपल लेकर कोरोना जांच के लिए भेज दिये है।

मोटाढांक की स्थानीय महिलाओं की भी नहीं है कोई ट्रैवल हिस्ट्री
खतरे की बात यह है कि मोटाढांक क्षेत्र निवासी कोरोना पॉजिटिव मिली दो महिलाएं काफी लंबे समय कहीं नहीं गई थी। किन्तु पिछले 24 जुलाई को क्षेत्र के एक युवक जिसमें कोरोना वायरस पाया गया था उसके संपर्क में आई थी। जिससे खतरे की बात यह है कि कोरोना पॉजिटिव आये युवक की भी कोई टै्रवल हिस्ट्री नहीं थी बावजूद वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया इसी तरह ये दो महिलाएं भी युवक के संपर्क में आने के बाद कोरोना पॉजिटिव निकली है। जिससे क्षेत्र व उनके संपर्क में आये अन्य लोगों में भी कोरोना संक्रमण की शंका बन गई है।

यमकेश्वर में भी मिला कोरोना पॉजिटिव
यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र में भी एक युवक में कोरोना पॉजिटिव मिला है। स्वास्थ्य विभाग युवक के संपर्क में आये लोगों को चिन्हित करने में जुटा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर में स्थापित वार रूम की रिपोर्ट के अनुसार बीती 23 जुलाई को देहरादून से 34 वर्षीय एक युवक यमकेश्वर विधानसभा के एक गांव आया था। प्रशासन ने युवक को होम क्वारंटीन कर दिया था। 26 जुलाई को युवक का रैंडल सैंपल लिया गया। गुरूवार को युवक की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। युवक को परमार्थ निकेतन ऋषिकेश में बनाये गये आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। जहां उसका उपचार चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!