प्रदेश में नहीं होने दी जाएगी पेयजल किल्लत : पेयजल मंत्री

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार।
शनिवार को पौड़ी से जनपदस्तरीय अधिकारियों की बैठक में शिरकत करने के बाद कोटद्वार पहुंचे प्रदेश के पेयजल मंत्री बिशन सिंह चुफाल ने कहा कि पूरे प्रदेश में पेयजल की समस्या है। इससे निपटने के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पेयजल की किल्लत नहीं होने दी जाएगी। विभागीय अधिकारियों को पेयजल किल्लत की समस्या से निपटने के लिए योजना बनाने को कहा गया है। पेयजल स्रोतों को सूखने से बचाने के लिए स्रोतों के ऊपर जलाशय बनाये जायेगें। विभाग जल संरक्षण को लेकर काम कर रहा है। इससे पूर्व कार्यकत्र्ताओं ने गर्मजोशी के साथ फूलमाला पहनाकर उनका स्वागत किया।
पनियाली गेस्ट हाउस में पत्रकारों से मुखातिब होते हुए पेयजल मंत्री बिशन सिंह चुफाल ने कहा कि पिछले वर्ष बारिश कम होने के कारण पेयजल स्रोतों में पानी कम हो गया है। जरूरत पड़ने पर सोलर पंपों से पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी। पेयजल किल्लत दूर करने के लिए हैंडपंप लगाने हेतु स्थानों को चिंहित करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए है। कहा कि वर्तमान समय में जंगलों में आग लगने की घटनाएं हो रही है। बिना जनता के सहयोग से जंगलों की आग को बुझाना संभव नहीं है। उन्होंने जनता से जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए वन विभाग का सहयोग करने की अपील की है। कहा कि चुनावी वर्ष को देखते हुए छह माह में विकास कार्य धरातल पर उतारने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए हैं। ताकि इसका लाभ जनता को मिल सके। इस अवसर पर पूर्व राज्यमंत्री राजेंद्र अण्थ्वाल, उमेश त्रिपाठी, पंकज भाटिया, विपिन कैंथोला, मंजू जखमोला, जंगबहादुर, सुनील गोयल, पूनम खंतवाल, चंद्रमोहन जसोला, किरन काला, ममता थपलियाल देवरानी, मुन्ना लाल मिश्रा, सतीश गौड़, गौरव जोशी, जितेंद्र नेगी आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!