पेशावर कांड के महानायक के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्थान सेवा समिति कोटद्वार ने पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की जयंती को धूमधाम से मनाया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की मूर्ति एवं भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी।
समिति के अध्यक्ष शैलेन्द्र सिंह बिष्ट गढ़वाली ने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की मूर्ति पर माल्यापर्ण कर श्रद्धाजंलि दी। इस अवसर पर शैलेन्द्र सिंह बिष्ट गढ़वाली ने कहा कि वीर चंद्र सिंह गढ़वाली ने पहाड़ की पीड़ा को बखूबी समझा और दूरस्थ क्षेत्रों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया था। वीर चंद्र सिंह गढ़वाली को पेशावर कांड के महानायक के रूप में याद किया जाता है। 23 अप्रैल 1930 को हवलदार मेजर चन्द्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में रॉयल गढ़वाल राइफल्स के जवानों ने भारत की आजादी के लिये लड़ने वाले निहत्थे पठानों पर गोली चलाने से मना कर दिया था। उन्होंने कहा कि पहाड़ के विकास की सोच उनके मन में सदैव रही। उन्होंने लगातार गढ़वाल व पहाड़ के विकास के लिए निरंतर कार्य किया। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी को उनका अनुसरण करना चाहिए। ताकि पहाड़ के विकास के प्रति अपना योगदान दे सके। शैलेन्द्र बिष्ट ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री कार्यकर्ताओ के मन में एक प्रेरणा एवं मार्गदर्शक के रूप में हमेशा रहेगें। उनकी प्रेरणा से आज भाजपा विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है। अटल के मन में उत्तराखण्ड के प्रति विशेष लगाव था जिसके फलस्वरूप उत्तराखण्ड निर्माण का श्रेय भी उन्हीं को जाता है। इस मौके पर डॉ. नन्द किशोर ढौंडियाल, धीरेन्द्र नेगी, मनोज सिंह, अनुसूया प्रसाद, दिलवर बिष्ट, गोपाल कृष्ण बड़थ्वाल, संग्राम सिंह भंडारी, कैप्टन गजेन्द्र मोहन धस्माना, अमित भारद्वाज, हाजी यासीन, महेंद्र सिंह बिष्ट (व्यापार संघ अध्यक्ष), पार्षद गायत्री भट्ट, मनीष भट्ट, कमल नेगी, दीप्ति चमोली, सौरभ नौडियाल, नामित पार्षद पंकज, सुभाष केष्टवाल, मंजुल डबराल, नन्द किशोर, मालती बिष्ट, नवल किशोर, मंजु जखमोला, आशा डबराल, हरि पुंडीर, अनीता शर्मा, त्रिलोक रावत आदि मौजूद थे।

कांग्रेस ने जयन्ती पर पेशावर कांड के महानायक को किया याद
कोटद्वार। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की 129वीं जंयती को धूमधाम से मनाया। कार्यकर्ताओं ने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के द्वारा द्वारा बताये विकास के मार्ग पर चलने तथा उनके अधूरे कार्यो को पूरा करने का संकल्प लिया।


तहसील परिसर स्थित वीरचंद्र सिंह गढ़वाली की आदम कद मूर्ति पर नगर निगम मेयर हेमलता नेगी व पूर्व मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने माल्यापर्ण कर श्रद्धाजंलि दी। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी ने कहा कि वीर चंद्र सिंह गढ़वाली ने अंगे्रज हुकूमत के द्वारा निहत्थे पठानों पर गोली चलाने के आदेश को मानने से साफ इंकार कर दिया था। अंग्रेजों ने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली को जेल में डालकर खूब यातनाऐं दी, लेकिन वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली जरा भी डिगे नहीं। आजादी मिलने के बाद तथा जेल से रिहा होने के बाद भी वीर चंद्र ंिसंह गढ़वाली विकास के प्रति समर्पित थे। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के नाम पर कई योजनाओं का सूत्रपात किया था, लेकिन वर्तमान में प्रदेश सरकार ने समस्त योजनाओं को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। इस मौके पर जिलाध्यक्ष डॉ़ चन्द्रमोहन खर्कवाल, महानगर अध्यक्ष संजय मित्तल, महानगर महिला अध्यक्ष शकुंतला चौहान, व्यापार मंडल अध्यक्ष महेन्द्र सिंह बिष्ट, पूर्व जिला पंचायत सदस्य दिलवर प्रताप सिंह, विनोद अग्रवाल, विकास अग्रवाल, गणेश नेगी, दिनेश रावत, पूर्व राज्य मंत्री विजय नारायण सिंह, बलवीर सिंह रावत, भाबर मंडल अध्यक्ष भारत सिंह रावत, तेजपाल सिंह पटवाल, हेमचंद्र पंवार, साबर सिंह नेगी, महावीर सिंह रावत, सतीश मलासी, प्रकाश लखेड़ा, शंकेश्वर प्रसाद सेमवाल, बबली भंडारी, विनीता भारती, प्रीति सिंह, सुमन ध्यानी, सुमित्रा रावत, विजय माहेश्वरी, वीडी नवानी, चन्द्रमोहन सिंह रावत, जितेन्द्र भाटिया, गबर सिंह, प्रदीप नेगी, हरेन्द्र पुंडीर, बृजमोहन सिंह, कृपाल सिंह, गोपाल सिंह गुसांई आदि मौजूद थे।

वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्तराखंड की धरोहर
कोटद्वार। पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की 129वीं जयंती पर पूर्व राज्य मंत्री जसवीर राणा ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पिक कर श्रद्धाजंलि अर्पित की।


बदरीनाथ मार्ग स्थित कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की आजादी के लिए पेशावर कांड एक महत्वपूर्ण पड़ाव था। पेशावर कांड के नायक वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली उत्तराखंड की धरोहर हैं। देश की आजादी के आंदोलन में उनका अग्रणी योगदान रहा है। उन्होंने निहत्थे सैनिकों पर गोली न चलाने का आदेश देकर महान देशभक्ति का परिचय दिया था। भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के आन्दोलन में यह घटना मील का पत्थर साबित हुई, जिसने भविष्य के लिए एक क्रांतिकारी आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि पेशावर क्रांति के बाद वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली राष्ट्र के अग्रणी स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की पंक्ति में खड़े हो गए। इस मौके पर सेवादल उपाध्यक्ष तेजपाल पटवाल, महिला कांग्रेस महानगर अध्यक्ष शकुंतला चौहान, महानगर अध्यक्ष राकेश शर्मा, शुभलोक रावत, विनोद रावत, विक्रम राणा, विमलेश नेगी, प्रीति सिंह, अतुल नेगी, विनोद शर्मा, रजनीश रावत आदि मौजूद थे। (फोटो संलग्न है) कैप्शन08:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!