पिथौरागढ़ में सेना और ग्रामीण आमने-सामने, आर्मी पर मुकदमा भी दर्ज

Spread the love

पिथौरागढ़। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में गुरुवार देर रात भारतीय सेना की स्थानीय इकाई ने सुवाकोट गांव में 60 हजार लीटर के नवनिर्मित पेयजल टैंक का तोड़ दिया। सेना की कार्रवाई का पता चलते ही स्थानीय जनता सड़क पर उतर आई। ग्रामीणों ने सेना की कार्रवाई का विरोध करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। बवाल की जानकारी मिलते ही विधायक और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। सेना ध्वस्तीकरण की कार्रवाई का कोई ठोस जवाब नहीं दे पाई। जल निगम और सुवाकोट ग्राम पंचायत की ओर से सेना इकाई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। प्रशासन ने सार्वजनिक संपत्ति को ध्वस्त करने में उपयोग की गई मशीन को सीज कर दिया गया है।
पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय से आठ किलोमीटर दूर सुवाकोट ग्राम पंचायत में 15 दिन पूर्व ही साढ़े छह लाख की लागत से साठ हजार लीटर क्षमता का पेयजल टैंक बनाया गया था। टैंक से करीब तीन हजार की आबादी को पानी सप्लाई होना था। गुरुवार की रात करीब दो बजे सेना की स्थानीय इकाई ने इस टैंक को जेसीबी मशीन से ध्वस्त कर दिया। तोडफोड़ की आवाज होने पर ग्राम प्रधान राकेश कुमार की अगुवाई में ग्रामीण मौके की ओ बढ़े तो सेना के जवानों ने उन्हें रोक लिया। इसे एक्सरसाइज बताते हुए मौके पर नहीं जाने दिया गया। शुक्रवार सुबह पेयजल टैंक, व्यू प्वाइंट और आम रास्ते ध्वस्त मिले। जिसकोे लेकर ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया।
ग्रामीणों ने इसकी सूचना विधायक, प्रशासन, जिला पंचायत और जल निगम के अधिकारियों को दी। सुबह सात बजे विधायक चंद्रा पंत, जिला पंचायत अध्यक्ष दीपिका बोहरा, एसडीएम (सदर) तुषार सैनी, जल निगम के अधिशासी अभियंता आरएस धर्मशक्तू गांव पहुंच गए। प्रशासन ने सेना की स्थानीय इकाई से सम्पर्क किया। सेना की ओर से संबंधित भूमि को अपना बताया गया। जिसके बाद मौके पर ही भू- अभिलेख मंगाए गए। भू- अभिलेख में सेना के मालिकाना हक की पुष्टि नहीं हुई। उपजिलाधिकारी ने मौके पर खड़ी जेसीबी को सीज कर पुलिस को सौंप दी। दोपहर बाद जल निगम और ग्राम पंचायत की ओर से पेयजल टैंक ध्वस्त करने, व्यू प्वाइंट और आम रास्तों को क्षतिग्रस्त करने के दो मुकदमे जाजरदेवल थाने में दर्ज कराए गए। अब पुलिस इस मामले की जांच करेगी। जांच के बाद अग्रिम कार्रवाई होगी।
2500 की आबादी प्रभावित
पेयजल टैंक ध्वस्त किए जाने से सुवाकोट गांव और वड्डा तोक की करीब 2500 की आबादी के समक्ष पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। क्षतिग्रस्त टैंक छह फीट अंडर ग्राउंड भी था, जिसमें काफी पानी जमा है। गांव में कोई हादसा न हो इसके लिए जल निगम ने फायर बिग्रेड बुलाकर जमा पानी की निकासी कराई। जल निगम के अधिशासी अभियंता आरएस धर्मशक्तू ने बताया कि फिलहाल गांव की पेयजल आपूर्ति डायरेक्ट कर दी गई है। इससे गांव के लोगों को नया पेयजल टैंक बनने तक पेयजल को लेकर कुछ दिक्कत झेलनी पड़ेगी। गांव में जल्द ही नया पेयजल टैंक बनाया जाएगा।
पूर्व में भी हो चुका है विवाद
सुवाकोट गांव में भूमि को लेकर ग्रामीणों और सेना के बीच पूर्व में भी विवाद हो चुका है। सेना गांव की कुछ भूमि को अपना बता रही है, लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि गांव वालों के पास यह भूमि कई शताब्दियों से है। उपजिलाधिकारी सदर ने स्पष्ट किया है कि सेना के पास इस भूमि के कोई अभिलेख नहीं है। इसके बावजूद भूमि रिकार्ड की फिर जांच कराई जा रही है। जल्द ही दोनों पक्षों को बुलाकर मामले का समाधान निकालने के प्रयास किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!