पीएम मोदी ने निवेशकों को दिया न्योता,

Spread the love

अलग-अगल सेक्टर में गिनाए अवसर
नई दिल्ली,एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया आइडियाज समिट को संबोधित करते हुए निवेशकों को भारत में निवेश करने के लिए न्योता दिया। उन्होंने स्वास्थ्य, रक्षा और ऊर्जा समेत अन्य क्षेत्रों में अवसर गिनाए। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत अवसरों की भूमि के रूप में उभर रहा है। उन्होंने टेक क्षेत्र का उदाहरण देते हुए कहा कि हाल ही में, भारत में एक दिलचस्प रिपोर्ट सामने आई। इसमें कहा गया कि शहरी इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की तुलना में पहली बार ग्रामीण इंटरनेट उपयोगकर्ता अधिक हैं।
पीएम मोदी ने स्वास्थ्य और रक्षा क्षेत्र पर निवेशकों का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि भारत आपको स्वास्थ्य सेवा में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। भारत में हेल्थकेयर सेक्टर हर साल 22 प्रतिशत से भी अधिक तेजी से बढ़ रहा है। हमारी कंपनियां चिकित्सा-प्रौद्योगिकी, टेलीमेडिसिन और डाइग्नोसिस में भी प्रगति कर रही हैं। भारत आपको रक्षा और अंतरिक्ष में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। हम रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए एफडीआइ कैप को 74: तक बढ़ा रहे हैं।
ऊर्जा क्षेत्र को लेकर पीएम मोदी ने इस दौरान कहा, श्भारत आपको ऊर्जा क्षेत्र में निवेश के लिए आमंत्रित करता है क्योंकि भारत गैस आधारित अर्थव्यवस्था में विकसित हो रहा है। अमेरिकी कंपनियों के लिए निवेश के बड़े अवसर होंगे। स्वच्छ ऊर्जा में भी अवसर हैं। भारत के पावर सेक्टर में प्रवेश करने का यह सबसे अच्छा समय है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि भारत आपको वित्त और बीमा में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। भारत ने बीमा में निवेश के लिए एफडीआइ कैप को 49: तक बढ़ा दिया है। अब बीमा मध्यस्थों में निवेश के लिए 100: एफडीआइ की अनुमति है।
पीएम मोदी ने कहा कि 2019-20 में भारत में एफडीआइ प्रवाह 74 बिलियन अमरिकी डलर था। यह पिछले वर्ष से 20: ज्यादा है। अप्रैल और जुलाई के बीच भारत ने 20 बिलियन अमेरिकी डलर से अधिक का विदेशी निवेश आकर्षित किया है। पीएम मोदी ने इस दौरान यह भी कहा कि पिछले छह वर्षों के दौरान हमने अपनी अर्थव्यवस्था को अधिक सुधार योग्य बनाने के लिए कई प्रयास किए हैं। इन सुधारों की वजह से प्रतिस्पर्धात्मकता, पारदर्शिता, डिजिटाइजेशन, इनोवेशनऔर पलिसी स्थिरता बढ़ी है।
इससे पहले उन्होंने कहा कि आज भारत के प्रति पूरी दुनिया आशावादी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत खुलेपन, अवसरों और प्रौद्योगिकियों का एक आदर्श संयोजन प्रदान करता है। भारत में लोगों और शासन में खुलेपन में विश्वास रखता है। खुले दिमाग खुले बाजार बनाते हैं और खुले बाजार अधिक समृद्घि का कारण बनते हैं। इससे पहले उन्होंने कहा कि सब कोई इस बात से सहमत हैं कि विश्व को बेहतर भविष्य की आवश्यकता है। हम सभी को सामूहिक रूप से भविष्य को आकार देना है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि भविष्य के लिए हमारा दृष्टिकोण मुख्य रूप से अधिक मानव-केंद्रित होना चाहिए।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने इंडिया आइडियाज समिट में कहा कि अमेरिका ने पीएम मोदी को अगले जी 7 शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया है, जहां हम अंतरराष्ट्रीय समृद्घि तंत्र को आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा, हम दुनिया के सबसे पुराने और सबसे समृद्घ लोकतंत्र हैं और यह महत्वपूर्ण है कि हमारे जैसे लोकतंत्र एक साथ काम करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!