भीमताल के कई रिहायशी इलाकों में भूस्खलन

Spread the love

नैनीताल। दो दिन से लगातार हो रही बारिश से कई मकानों की सुरक्षा दीवारें गिरने से आवासीय भवनों के गिरने का खतरा बढ़ गया है। वहीं जंगलियागांव में पहाड़ी
से भू-स्खलन होने से आवासीय भवन में मलबा आ गया। साथ ही वहां लगे मोबाइल टावर के गिरने का खतरा बढ़ गया है। बुधवार को बारिश के चलते मलुवाताल
के राजेंद्र गंगोला पुत्र रतन सिंह के घर की सुरक्षा दीवार भरभराकर गिर गई। जो उनके आवासीय भवन के लिये खतरा बन गया है। वहीं देवकाधुरा दिनेश दुम्का के
घर का आंगन और सुरखा दीवार गिरने से घर खतरे की जद में आ गया है। प्रधान लक्ष्मण गंगोला, सामाजिक कार्यकर्ता हेम दुम्का और पूर्व बीडीसी सदस्य दुर्गादत्त
पलड़िया ने प्रशासन से परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के साथ आर्थिक मदद की मांग की है। इधर जंगलियागांव के टीकम सिंह के आवासीय भवन के ऊपर पहाड़ी
से भू-स्खलन होने से मलबा आ गया है। साथ ही यहां स्थित निजी कंपनी का लगा मोबाइल टावर के गिरने का खतरा बढ़ गया है। प्रधान राधा कुल्याल ने प्रशासन
से मकान की छत पर गिरे मलबे को हटाने और सुरक्षा दीवार बनाने की मांग की है।
पहाड़ी धंसने से जंगलियागांव मोटर मार्ग में छह घंटे बंद
भीमताल। भारी बारिश के चलते बुधवार तड़के थपलिया-महरागांव से पांच किलोमीटर आगे पहाड़ी धंसने से भीमताल-जंगलियागांव मोटर मार्ग करीब छह घंटे बंद
रहा। इससे जंगलियागांव, देवकाधूरा, मलुवाताल, बानना समेत आसपास के दर्जनों गांवों का आवागमन बंद हो गया। प्रधान राधा कुल्याल और प्रेम कुल्याल ने इसकी
सूचना लोनिवि के सहायक अभियंता बीसी जोशी को दी। इसके बाद लोनिवि ने जेसीबी से दोपहर 12 बजे मलबा हटाने के बाद मार्ग पर यातायात सुचारू हुआ। इधर
नौकुचियाताल मार्ग के हनुमान मंदिर के समीप पहाड़ी दरकने से वहां रहने वाले आधा दर्जन परिवारों का पैदल रास्ता टूट गया। क्षेत्र के विशन पोखरिया, पूरन
बृजवासी ने क्षतिग्रस्त मार्ग बनाने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!