भाजपा से मोह भंग, दीदी की शरण में मुकुल

Spread the love

कोलकाता , एजेंसी। घर वापसी के बाद मुकुल राय ने पत्रकारों से चर्चा में कहा- मैं बीजेपी छोड़कर टीएमसी में आया हूं, अभी बंगाल में जो स्थिति है, उस स्थिति में कोई बीजेपी में नहीं रहेगा। दादा ने टीएमसी में वापसी के बाद उनकी विचारधारा को लेकर पत्रकारों द्वारा पूटे गए सवाल के जवाब में यह बात कही।
राय ने कहा कि सभी जाने-पहचाने चेहरों को एकबार फिर से देखकर, भाजपा से बाहर निकलकर अच्छा लगता है। उन्होंने यह भी कहा कि दीदी के साथ कोई मतभेद नहीं था और वह देश की नेता हैं।
तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख व बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मुकुल रय की घर वापसी पर स्वागत किया। ममता बनर्जी ने इस मौके पर कहा कि भाजपा में मुकुल रय को धमकाया गया, इससे उनकी सेहत पर असर पड़ा। ममता ने मुकुल रय को क्लीनचिट देते हुए कहा, श्हमारा दल शक्तिशाली है, लोगों ने हमारी पार्टी के साथ गद्दारी की, लेकिन मुकुल ने चुनाव के दौरान भी हमारे साथ गद्दारी नहीं की। जिन लोगों ने हमारी पार्टी के साथ गद्दारी की, उन्हें वापस नहीं लेंगे।श्श् टीएमसी महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि मुकुल रय के बेटे सुभ्रांशु भी तृणमूल कांग्रेस में लौट आए हैं।
ममता बनर्जी ने पत्रकारों से चर्चा में कहा- वे (मुकुल रय) महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे, पहले वे जो भूमिका निभाते थे, भविष्य में भी वे वही भूमिका निभाएंगे। टीएमसी एक परिवार है। ममता बनर्जी से पूछा गया था कि मुकुल रय को भविष्य में किस पद की जिम्मेदारी दी जाएगी? इस सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने यह बात कही।
वे (मुकुल रय) महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे, पहले वे जो भूमिका निभाते थे, भविष्य में भी वे वही भूमिका निभाएंगे। ज्डब् एक परिवार हैरू पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, मुकुल रय को भविष्य में किस पद की जिम्मेदारी दी जाएगी । ममता बनर्जी ने राजीव बनर्जी सहित टीएमसी के अन्य बागियों की घर वापसी के सवाल को टाल दिया। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में इस बारे में कुछ कह पाएंगी। ममता ने कहा श्आप लोगों ने देखा कि लैंडस्लाइड विक्ट्री हासिल की। मुकुल अच्छा लड़का है, उसे डरा, धमका कर और एजेंसियों से डराकर बीजेपी ले गई थी, लेकिन उसे यहां वापस आकर मानसिक शांति मिलेगी। बीजेपी में बहुत अधिक शोषण है।
माना जा रहा है कि मुकुल के भाजपा से खफा होने की वजह सुवेंदु अधिकारी का बंगाल भाजपा में बढ़ता कद रहा। पहले मुकुल रय राज्य में पार्टी के अग्रणी नेताओं में थे, लेकिन हालिया चुनाव से पूर्व सुवेंदु अधिकारी को तवज्जो मिलने लगी थी। इससे मुकुल रय खफा थे।
बीते कुछ दिनों से मुकुल रय ने भाजपा की बैठकों से दूरी बना ली थी। इसी बीच उनकी पत्नी बीमार हो गईं तो ममता बनर्जी के भतीजे व टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी उनसे मिलने गए। इसी बीच मुकुल रय की नाराजगी की भनक लगने पर पीएम मोदी ने तीन जून को खुद उनसे फोन पर करीब 10 मिनट तक बात की थी। इसके बाद भी मुकुल रय नहीं माने और आखिरकार श्घरश् लौट गए।
मुकुल रय ने 2017 में ममता बनर्जी की टीएमसी छोड़कर भाजपा में प्रवेश किया था। उन्हें भाजपा ने अपना राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तक बना दिया था। हालिया विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद से ही उन्होंने पार्टी से किनारा कर लिया था।
बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा ने मुकुल रय को ष्णनगर उत्तर सीट से प्रत्याशी बनाया था। वह टीएमसी की कौशानी मुखर्जी को 35 हजार से ज्यादा वोटों से हराकर विजयी हुए। उनके बेटे सुभ्रांशु रय भी भाजपा प्रत्याशी बनाए गए थे, लेकिन वह हार गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!