कभी भी क्षतिग्रस्त हो सकती है तेलीस्रोत में बनी पुलिया

Spread the love
जयन्त प्रतिनिधि।
कोटद्वार। नगर निगम के वार्ड नंबर 37 पश्चिमी झंडीचौड़ में तेली स्रोत में करीब 30 साल पुरानी पुलिया कभी क्षतिग्रस्त हो सकती है। स्थानीय लोगों से शासन-प्रशासन से जल्द से जल्द पुलिया व रपटा को बनाने की मांग की है।
पार्षद सुखपाल शाह ने बताया कि पश्चिमी झंडीचौड़ प्रेम नगर बस्ती के समीप तेलीसोत में स्थानीय जनता की सुविधा के लिए करीब तीस साल पहले पुलिया बनाई गई थी, जो अब जीर्णक्षीर्ण हो चुकी है। उन्होंने कहा कि तेलीस्रोत में चैनेलाइजेशन के नाम पर खनन किया गया, जिसका स्थानीय लोगों व पार्षदों ने विरोध किया, लेकिन फिर पर खनन रूक नहीं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि खनन करने वालों ने पुलिया के नीचे खनन किया, जिस कारण पुलिया की नींव हिल गई है। पूर्व में इसकी शिकायत एसडीएम कोटद्वार से की गई थी। एसडीएम ने आश्वासन दिया था कि खनन न्यास निधि से पुलिया का निर्माण किया जायेगा। पुलिया निर्माण व रपटा निर्माण का प्रस्ताव प्रशासन को दो माह पूर्व भेज दिया था, लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। जिससे लोगों में आक्रोश पनप रहा है। पार्षद सुखपाल शाह ने कहा कि बरसात में जब तेली स्रोत उफान पर आता है तो लोग जर्जर पुलिया से आवाजाही करने को मजबूर है। ऐसे में कभी भी कोइ अप्रिय घटना हो सकती है। यह पुलिया वार्ड नंबर 36 और 37 को जोड़ती है। इस पुलिया से उक्त वार्डों के लोगों के अलावा पशु भी जंगल चुगने जाते है। उन्होंने शासन-प्रशासन से जनहित में पुलिया और रपटा का निर्माण जल्द से जल्द से कराने की मांग की है। (फोटो संलग्न है)
कैप्शन02: वार्ड नंबर 37 पश्चिमी झंडीचौड़ में तेली स्रोत पर बनी पुलिया जर्जर स्थिति में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!