दिल्ली से लौटी 70 वर्षीय महिला में कोरोना की पुष्टि

Spread the love

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा में पांच दिन राहत के बाद सोमवार को दिल्ली से लौटी एक 70 साल की महिला में कोरोना की पुष्टि हुई है। महिला कुछ दिन पूर्व ही गांव स्याल्दे ब्लॉक लौटी थी। तबियत बिगड़ने के बाद उसे होम क्वारंटाइन से रानीखेत अस्पताल में आइसोलेट किया गया था। महिला में कोरोना की पुष्टि के बाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75 पहुंच गई है। जिसमें एक बुजुर्ग की मौत हो चुकी है। 72 मरीज स्वस्थ्य होकर घर जा चुके हैं। जबकि वर्तमान महिला को मिलाकर अब जिले में दो कोरोना केस एक्टिव है। इसके साथ ही सोमवार को भेजे गए 213 सैंपल के समेत 825 सैंपल की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। सोमवार को उत्तराखंड शासन की ओर से जारी बुलेटिन में एक महिला में कोरोना की पुष्टि की गई है। जबकि 76 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।
1882 सैंपल अब तक कोरोना जांच को भेजे
अल्मोड़ा से अब तक 1882 लोगों के सैंपल कोरोना जांच को भेजे जा चुके हैं। जिसमें 74 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। जबकि 976 सैंपल की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।
जिला अस्पताल कर्मी की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव
अल्मोड़ा। जिला अस्पताल में तैनात कर्मी के बेटे में कोरोना की पुष्टि होने के बाद अस्पताल में तैनात कर्मी को परिवार समेत एहतियातन संस्थागत क्वारंटाइन कर दिया गया। इसके साथ ही कोरोना सैंपल जांच को भेजे गए। बताते चलें कि जिला अस्पताल में तैनात कर्मी के बेटे में कोरोना की पुष्टि हुई थी। अस्पताल कर्मी का बेटा दिल्ली से वापस लौटा था। जिसके बाद अस्पताल प्रशासन में भी खलबली मच गई थी। लेकिन अब अस्पताल कर्मी की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आ गई है। जिसे अस्पताल कर्मी समेत अस्पताल प्रशासन ने राहत की सांस ली। अस्पताल कर्मी के अन्य परिवार के सदस्यों की भी कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।
इलाज को पहुंची महिला का कोरोना जांच को लिया सैंपल
अल्मोड़ा महिला अस्पताल में इलाज को पहुंची एक महिला का कोरोना सैंपल लिया गया है। दरअसल बीते शुक्रवार को होम क्वारंटाइन के दौरान एक महिला की तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद परिजन उसे महिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां उसे भर्ती कर महिला का इलाज किया गया। लेकिन ट्रेवल हिस्ट्री को देखते हुए सोमवार को महिला का कोरोना सैंपल जांच के लिए लिया गया। बताया जा रहा कि महिला कुछ दिन पूर्व ही नागपुर से अपने घर पहुंची थी। जिसको होम क्वारंटाइन किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!