फरार विकास दुबे का खास मुठभेड़ में ढेर

Spread the love

कानपुर, एजेंसी । आठ पुलिस कर्मियों की हत्या में आरोपित ढाई लाख का इनामी मोस्टवांटेड विकास दुबे फीदाबाद में पुलिस के हाथ से फिसल गया, हालांकि एक साथी हत्थे चढ़ गया है। वहीं हमीरपुर में एसटीएफ और पुलिस से हुई मुठभेड़ में विकास का साथी अमर दुबे मारा गया है। उधर, विकास से संबंधों के शक में चौबेपुर के पूरे थाने पर कार्रवाई कर दी गई है। इसमें मंगलवार को 68 पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की गई है, जबकि इससे पहले चौबेपुर एसओ, दो दारोगाओं व एक सिपाही को संस्पेंड और दस पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर किया जा चुका है। बिकरू कांड के समय चौबपुर थाने के एसओ रहे विनय तिवारी और बीट प्रभारी केके शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनपर सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या में फरार मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे से संबंध, मुठभेड़ के समय पुलिस टीम की जान खतरे में डालने और मौके से भाग जाने के मामले में मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई की गई है। आइजी मोहित अग्रवाल और एसएसपी दिनेश कुमार पी ने इसकी पुष्टि करते हुए मुकदमा दर्ज किए जाने की जानकारी दी है। घटना के बाद से ही संदेह के दायरे में रहे तत्कालीन एसओ विनय तिवारी से पुलिस और एसटीएफ की टीम ने गहन पूछताछ की थी। इस दरमियान उनके द्वारा पुलिस टीम को छोड़कर भागने और हिस्ट्रीशीटर अपराधी विकास दुबे के बाबत जानकारी उच्चाधिकािरयों को न दिए जाने की पुष्टि होने पर उन्हें संस्पेंड कर दिया गया था। इसके बाद उनसे पूछताछ और विकास दुबे से संबंधों को लेकर जांच चल रही थी। हमीरपुर मौदहा में एसटीएफ की मुठभेड़ में मारे गए अमर दुबे की पत्नी शशि को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है। अमर की शादी घटना के तीन दिन पहले 29 जून को हुई थी। विकास ने गांव में ही लड़की वालों को बुलाकर शादी कराई थी।बिकरू गांव में विकास दुबे के घर के पास पुलिस ने बुधवार को दिन भर में दोनों कुएं का पानी बाहर निकलवा दिया। पानी बाहर निकलवाने के बाद पुलिस और फायर ब्रिगेड के जवानों ने कुओं के अंदर खंगाला लेकिन कोई साक्ष्य या असलहा नहीं मिला। पूरे दिन की मशक्कत के बाद पुलिस को यहां भी मायूसी ही हाथ आई है। बिकरू गांव में मोस्टवांटेड विकास दुबे के घर के पास एक कुएं का पूरा पानी निकालकर सर्च अपरेशन पूरा हो गया है। पुलिस ने अब फायर ब्रगेड की मदद से दूसरे कुएं के पानी का खाली कराना शुरू कर दिया। घटना के बाद फरार होते समय विकास व उसके साथियों द्वारा कुएं में असलहे देंके के संदेह पर सर्च अपरेशन चलाया जा रहा लेकिन पहले कुएं में पुलिस को कुछ नहीं मिला है।बिकरू कांड के बाद पांच लाख के इनामी विकास दुबे की साथियों की सूची व पोस्टर पुलिस ने जारी किया था, इस मोस्टवांटेड लिस्ट में शामिल रहे संजीव दुबे और जहान यादव को भी चौबेपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दोनों को थाने में रखकर पूछताछ की जा रही है। मुठभेड़ में आठ पुलिस जवानों के शहीद होने की घटना में फरार हिस्ट्रीशीटर अपराधी विकास दुबे के बारे में जानकारी न देने और मारपीट की बात छिपाए रखने आदि आरोपों में एसओ पद से निलंबित किए गए विनय तिवारी को बुधवार की दोपहर चौबेपुर थाने लाया गया है और पुलिस फोर्स की निगरानी में रखा गया है। सूत्रों के अनुसार उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करके उनकी गिरफ्तारी भी की जा सकती है। मोस्टवांटेड विकास दुबे पर अब पांच लाख रुपये इनाम घोषित कर दिया गया है। घटना के बाद पहले पचास हजार का इनाम घोषित था, जिसे बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दिया गया था। इसके बाद डीजीपी ने उसपर ढाई लाख रुपये का इनाम की घोषणा कर दी थी। इसके बाद कानपुर पुलिस अफसरों ने इनाम की राशि बढ़ाकर पांच लाख रुपये करने की घोषणा का प्रस्ताव शासन को भेजा था, जिसे स्वीति मिल गई है। मुठभेड़ में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद इनामी मोस्टवांटेड विकास दुबे के बिकरू गांव में पुलिस का सर्च अपरेशन जारी है।
मोस्टवांटेड विकास दुबे के फरार होने से पहले घटना में प्रयुक्त असलहे कुएं में देंके जाने के शक में बुधवार की सुबह से पुलिस ने सबमर्सिबल से पानी निकालने का काम शुरू कर दिया है। यह कुआं विकास दुबे के घर के पास ही है, मौके पर भारी पुलिस फोर्स तैनात है। मोस्ट वांटेंड विकास दुबे की तलाश में यूपी पुलिस ने मध्यप्रदेश के शहडोल में छापा मारा था। शहडोल में रहने वाले साले राजू खुल्लर उर्फ राजू निगम के घर पर विकास के छिपे होने का शक था।

दुबे के 3 साथियों की फरीदाबाद कोर्ट में पेशी
फरीदाबाद। उत्तर प्रदेश के कानुपर में 8 पुलिसवालों की हत्या के आरोपित हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के 3 साथियों को फरीदाबाद क्राइम ब्रांच ने बुधवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने आरोपित प्रभात को कानपुर के चौबेपुर थाना के सब इंस्पेक्टर देवेंद्र सिंह की मांग पर एक दिन की ट्रांजिट रिमांड पर सौंपा है। जबकि अंकुर और उनके पिता श्रवण को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया है।पुलिस ने विकास दुबे के साथी प्रभात से पुलिस ने तीन पिस्टल बरामद की थी। इनमें 2 पिस्टल यूपी पुलिस की और एक विकास की है। मिली जानकारी के मुताबिक, विकास दुबे पांच जुलाई को ही यहां पर पहुंच गया था। सूत्रों के मुताबिक, यहां के इंदिरा एन्क्लेव में उसका रिश्तेदार अंकुर रहता है। पहले वह अंकुर के पास ठहरा था। बाद में उसके लिए ओयो में ठहरने की व्यवस्था की। पुलिस को इंदिरा एन्क्लेव से ही सुराग हाथ लगा था। इसके बाद अंकुर को हिरासत में लिया गया। उसने विकास के ओयो होटल में ठहरे होने की सूचना दी। इसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने ओयो के गेस्ट हाउस पर छापेमारी की। वहां से प्रभात उर्फ कार्तिकेय को पकड़ा गया, जबकि विकास पहले ही यहां निकल गया था।

मीडिया के सामने आत्मसमर्पण कर सकता है विकास दुबे
नोएडा। कानपुर में पुलिस कर्मियों की हत्घ्या कर सुर्खियों में आने वाला अपराधी विकास दुबे सरेंडर करने की जुगत में है। फिलहाल मिल रही ताजा जानकारी के अनुसार वह नोएडा की फिल्म सिटी में मीडिया के सामने आत्मसमर्पण कर सकता है। इसके कारण नोएडा फिल्म सिटी के बाहर अचानक से फोर्स की तैनाती कर दी गई है। पुलिस से बचने के लिए वह लगातार अपने जगह को बदल रहा है। कानपुर से क्राइम करने के बाद से वह लगातार अपना ठिकाना बदल रहा है। मंगलवार को वह फरीदाबाद में देखा गया था जिसके बाद वहां पर पुलिस ने छापेमारी की तो वह भागने में सफल रहा हालांकि उसका एक साथी पुलिस की पकड़ में आ गया। वह फिलहाल पुलिस से बचाने के लिए मीडिया के सामने आत्मसमर्पण कर सकता है।इससे पहले गौतमबुद्घ नगर कोर्ट में समर्पण करने की अटकलों की वजह से पुलिस अलर्ट हो गई थी। बुधवार दोपहर अचानक कोर्ट परिसर के अंदर व बाहर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती हुई। पुलिस को आशंका थी कि विकास यहां सरेंडर कर सकता है। इसके कारण पुलिस लोगों के मास्क हटाकर चेहरे देखने में जुट गई ताकि किसी प्रकार से वह रुप बदल कर वह अपने प्लान में कामयाब ना हो पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!