केसीसी योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना जरूरी

Spread the love

जयन्त प्रतिनिधि।
पौड़ी। कृषि विभाग एवं नाबार्ड के तत्वाधान में जनपद के कृषि कार्य/व्यवसाय से जुड़े किसानों को सोमवार को विकास भवन सभागार, पौड़ी में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में प्रशिक्षण दिया गया। डीडीएम नाबार्ड भूपेन्द्र सिंह ने फसल की कटाई से लेकर बाजार में निर्यात करने तक की जानकारी कृषकों को दी गई। उन्होंने कहा कि जिन काश्तकारों के किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) अभी तक नहीं बने हैं, उनके केसीसी बैंक से बना दिये जायेंगे, जिससे किसानों को कृषि योजनाओं का लाभ प्राप्त हो सके। इस योजना के तहत कम ब्याज दर पर किसानों को लोन दिया जा रहा है, जिससे किसान खेतों में सिंचाई से लेकर अन्य कार्य कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ लेने के लिए काश्तकारों को ऑनलाइन पंजीकरण करना जरूरी है, जिससे उन्हें रोजगार से जोड़ा जा सकेगा। उन्होंने यह भी कहा कि बैंक में दस्तावेज पूर्ण होने पर लोन दिया जाएगा।
मुख्य कृषि अधिकारी देवेंद्र सिंह राणा ने कृषि के क्षेत्र में संचालित हो रहे कार्यों की जानकारी देते हुए कहा कि कृषि के क्षेत्र में किसान, पैक्स, विपणन, सहकारी समितियां, किसान उत्पादन संगठन, कृषि उद्यमी, स्टार्ट-अप, स्वयं सहायता समूह, संयुक्त देयता समूह, केंद्रीय/राज्य एजेंसी या स्थानीय निकायों द्वारा प्रायोजित सार्वजनिक निजी साझेदारी आदि योजनाएं शामिल हैं। उन्होंने पात्र ऋण संस्थाएं जैसे अनुसूचित वाणिज्यक बैंक, अनुसूचित सहकारी बैंक, आरआरबी, एसएफबी, एनबीएफसी, एनसीडीसी, डीसीसीबी, पात्र गतिविधियां, निधि आवश्यकता, निधि के उद्देश्य, योजना का प्रक्रिया प्रभाव, प्रस्ताव तैयार करना, अन्य योजनाओं के साथ युगपतिकरण सहित विभिन्न कार्यों की विस्तार से जानकारी किसानों को दी। इस अवसर पर कृषि भूमि संरक्षण अधिकारी धुमाकोट प्रमोद कुमार सैनी, कोट के आरपी ध्यानी, एसएचआई नेहा रावत, एएओ रिखणीखाल गोपेश्वर चन्द्र सहित बृजभूषण, विनोद खुराना, विनय कुमार, नरेन्द्र सिंह मेहता आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!