यूपी सीएम आदित्यनाथ एवं स्वामी चिदानन्द सरस्वती की हुई भेंटवार्ता

Spread the love

परमार्थ निकेतन की ओर से भव्य राम मन्दिर निर्माण को 51 लाख रु. का चेक किया समर्पित
ऋषिकेश। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री महंत योगी आदित्यनाथ एवं परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती की भेंटवार्ता हुई। दोनों दिव्य विभूतियों की औपचारिक चर्चा के दौरान स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने मुख्यमंत्री श्री योगी को प्रयागराज कुंभ मेला- 2019’ को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किये जाने हेतु धन्यवाद देते हुये कहा कि यह भारत के लिये गर्व का विषय है। स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने योगी आदित्यनाथ जी को कुम्भ मेला, हरिद्वार एवं परमार्थ निकेतन में अप्रैल-मई माह में आयोजित एक माह की ‘‘श्री राम कथा’’ में सहभाग हेतु आमंत्रित किया। श्री योगी से धर्मनगरी अयोध्या और श्री राम मन्दिर की चर्चा करते हुये स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने सुझाव देते हुये कहा कि भगवान शिव के ग्यारह रूद्र स्वरूप है अत: अयोध्या में ग्यारह हजार रूद्राक्ष के पौधों का रोपण किया जाये हमारी हार्दिक इच्छा है। अयोध्या में रूद्राक्ष वन की स्थापना होनी चाहिये अगर यह सेवा योजना क्रियान्वित होती है तो परमार्थ निकेतन की ग्यारह हजार रूद्राक्ष के पौधों का सहयोग प्रदान करने की इच्छा है। स्वामी जी ने बताया कि जैसे ही अयोध्या में स्थान का चयन हो जाये तो रूद्राक्ष पौधों के रोपण का कार्य आरम्भ किया जा सकता है। इस अवसर पर स्वामी जी ने माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी को रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया। तत्पश्चात स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने आज राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा सरयू तट, अयोध्या में आयोजित ‘श्री राम वन गमन पथ काव्य यात्रा’ एवं अधिवेशन में सहभाग किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने चंपत राय, महामंत्री श्री राम मंदिर ट्रस्ट अयोध्या को परमार्थ निकेतन की ओर से भव्य राम मन्दिर निर्माण हेतु 51 लाख रूपये का चेक किया समर्पित किया। आज अयोध्या में राष्ट्रीय कवि संगम के पदाधिकारी गण एवं अन्य सभी अतिथियों ने अयोध्या में श्री राम चन्द्र भगवान जी के जहां-जहां चरण पड़े और उन्होंने जहां विश्राम किया उन सभी स्थानों का भ्रमण ‘श्री राम वन गमन पथ काव्य यात्रा’ के माध्यम से किया और संकल्प लिया। स्वामी ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ मेला के अवसर पर प्रज्ञापुरूष मोहन भागवत एवं पूरा संत समाज उपस्थित था उस समय इस संसार ने दिव्य कुम्भ और भव्य कुम्भ का दर्शन किये अब दिव्य अयोध्या और भव्य अयोध्या की शुरूआत होनी चाहिये। स्वामी जी ने कहा कि आज अयोध्या आकर अत्यंत प्रसन्नता हो रही है कि यहां पर दिव्य और भव्य भगवान श्री राम के मन्दिर का निर्माण हो रहा है। यहां केवल राम मन्दिर नहीं बल्कि राष्ट्र मन्दिर का निर्माण हो रहा है जिससे आने वाली पीढ़ियां इस संस्कृति और संस्कारों से आप्लावित होती रहेंगी। इस अवसर पर स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज, चंपत राय महामंत्री श्री राम मंदिर ट्रस्ट अयोध्या, वरिष्ठ कवि डॉ हरिओम और अनेक गणमान्य अतिथियों एवं प्रख्यात कवियों ने सहभाग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!