आंदोलन के बीच मोबाइल टावरों पर किसानों का क्यों फूट रहा गुस्सा? 1500 से ज्यादा को पहुंचाया नुकसान, ब्ड अमरिंदर ने दिया ऐक्शन लेने का निर्देश

Spread the love

नई दिल्ली, एजेंसी। केंद्र सरकार के तीन नए षि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों का गुस्सा मोबाइल टावर पर फूट रहा है। किसानों ने आंदोलन के दौरान पंजाब में 1500 से ज्यादा मोबाइल टावरों को नुकसान पहुंचाया है। सूत्रों का कहना है कि इसकी वजह से कई इलाकों में सेवाएं भी बाधित हुई हैं। किसानों ने आंदोलन के दौरान बिजनेसमैन और रिलायंस जियो के मालिक मुकेश अंबानी और कारोबारी गौतम अडाणी पर विभिन्न आरोप लगाए हैं। किसानों का कहना है कि सरकार के नए षि कानूनों की वजह से अंबानी-अडाणी को फायदा मिलेगा। इस वजह से जियो का बहिष्कार का ऐलान करने के बाद किसानों ने राज्य के कई टेलीकम टावरों को क्षतिग्रस्त कर दिया। वहीं, राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पुलिस से टावरों को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ ऐक्शन लेने का निर्देश दिया है।
आंदोलन के दौरान किसानों ने टावरों को मिलने वाली पावर सप्लाई को बाधित किया। साथ ही, पंजाब के कई हिस्सो में केबल को भी नुकसान पहुंचाया। हालांकि, न तो अंबानी का रिलायंस समूह और न ही अडाणी की कंपनियां किसानों से खाद्यान्नों की खरीद के कारोबार में हैं। इस पूरे मामले से वाकिफ सूत्र ने बताया, श्श्कल तक (रविवार) 1,411 मोबाइल टावर को नुकसान पहुंचाया जा चुका था और आज यह गिनती बढ़कर 1,500 के पार पहुंच गई है।श्श् जालंधर में भी जियो के फाइबर केबल को किसानों ने जला दिया है।
रिलायंस जियो के पंजाब में 9 हजार से ज्यादा मोबाइल टावर लगे हुए हैं। वहीं, एक अन्य सूत्र ने बताया कि किसान टेलीकम टावर को नुकसान पहुंचाने के लिए बिजली सप्लाई रोक दे रहे हैं। कम से कम एक मामले में, टावर साइट पर लगा हुआ जेनरेटर को लोग उठा ले गए और स्थानीय गुरुद्वारे को दान दे दिया। वहीं, जियो कर्मचारियों को धमकी देने और भाग जाने के वीडियो भी वायरल हो रहे हैं। सूत्र ने आगे बताया कि हमलों ने टेलीकम सर्विस को प्रभावित किया है और अपरेटर कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा कार्रवाई के अभाव में सर्विस को बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इससे पहले, पंजाब के मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को किसानों से ऐसे कार्यों को न करने की अपील की थी, जिससे आम जनता को असुविधा हो। उन्होंने लोगों से संयम बनाए रखने के लिए कहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!