घंडियाल में बोले सीएम रावत, भांग की खेती है मुनाफे का सौदा

Spread the love

धान की कटाई कर किनवा की बुआई की
जयन्त प्रतिनिधि।
पौड़ी। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र्र ंसह रावत ने कल्जीखाल ब्लॉक के घंडियाल में कास्तकारों को भांग की खेती पर विशेष जोर देने को कहा। उन्होंने कहा कि मैने भी भांग के रेशे से बनाई जैकेट पहनी है। भांग के रेशे से 530 प्रकार की वस्तुओं का निर्माण किया जाता है। यही नहीं इससे काश्तकारों को अच्छा मुनाफा प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि भौगोलिक बनावट के अनुसार अपने राज्य में कृषि व उद्यानीकरण के लिए पर्याप्त सम्भावनाएं हैं। देश में 16 प्रकार की जलवायु विद्यमान है। समुद्री और रेगिस्तानी जलवायु को छोड़ भी दिया जाए तो भी उत्तराखंड में 14 प्रकार की जलवायु मौजूद हैं। जो कि कृषि और बागवानी के लिए वरदान से कम नहीं है। जलवायु आधारित फसलों के लिए उत्तराखंड का एकाधिकार है। यहां पर हिमालय से प्राप्त होने वाली विभिन्न प्रकार की औषधीय फसलें हैं तो पहाड़ी और मैदानी फसलों से भी उत्तराखंड परिपूर्ण है।
प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र्र ंसह रावत ने कल्जीखाल ब्लॉक के घंडियाल में बागवानी की ओर जाने वाले हल्के मोटर वाहन के सुधारीकरण, कोल्ड स्टोर की जगह कूल हाउस बनाने, पर्यटन विभाग द्वारा होम स्टे क्षेत्र में बनाये जाने की सहमति प्रदान की। उन्होंने क्षेत्र की फसलों को विपणन आदि के लिए एक वातानुकूलित वाहन को हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। उन्होंने पर्यटक गतिविधियों को बढ़ावा देने लिए मोटर बाइक स्पॉर्ट के तहत मोटर साइकिल किराये पर देने को कहा। मुख्यमंत्री ने टीएनवीएसईजी द्वारा की गई खेती व बागवानी का स्थलीय निरीक्षण कर धान की फसल की कटाई और किनवा की बुआई की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के आह्वान पर आपदा को अवसर में बदलने का बेहतर प्रयास यहां के लोगों ने किया है।
प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जनपद के कल्जीखाल ब्लाक के घंडियाल में दूसरी दुनिया फर्मिंग स्टेट व टीएनवीएसईजी (स्वालंबन स्वयं सहायता समूह) के तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। मुख्यमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि आज हमारे समकक्ष आपदा को अवसर में बदलने की भी बड़ी चुनौती है। उत्तराखंड में अनेक नौजवान कठिन परिस्थितियों के कारण घर की ओर वापस लौटे हैं। उत्तराखंड के युवाओं को स्वरोजगार के लिए पर्याप्त अवसर मिले, इसके लिए राज्य में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना शुरू की गई है। इस योजना में लगभग सभी प्रकार के कार्यों को शामिल किया गया है। पौड़ी में युवाओं द्वारा सामूहिक प्रयासों से सराहनीय कार्य किया जा रहा है। अन्य लोगों को भी इससे प्रेरणा लेकर कार्य करने होंगे। स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार निरंतर प्रयासरत है। हमें स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के साथ ही उनकी पैकेजिंग एवं ब्रांडिंग पर भी विशेष ध्यान देना होगा। इस मौके पर टीएनवीएसई ग्रुप के निदेशक दिनेश रावत, सलाहकार संदीप नैथानी, अध्यक्ष धीरेंद्र रावत, सीईओ परमजय रावत, मनंजय रावत, राज्यमंत्री घनानंद, राज्यमंत्री अतर सिंह असवाल, जिला मीडिया प्रभारी भाजपा गणेश भट्ट, जिलाधिकारी धीराज सिंह गब्र्याल, एएसपी प्रदीप राय, डीडीओ वेदप्रकाश, एसडीएम एसएस राणा, काश्तकार सोहन सिंह, मुकेश, संदीप, दिनेश सिंह आदि उपस्थित रहे।

स्वरोजगार अपनाने पर जोर दिया
सीएम त्रिवेन्द्र्र ंसह रावत ने लोगों से स्वरोजगार अपनाने पर जोर देते हुए कहा कि सरकारी क्षेत्र में रोजगार की संभावनाएं समिति है, जबकि स्वरोजगार की अपार सम्भावनाएं हैं। उन्होंने लोगों से मैदानों की तरफ दौड़ने के बजाय अपने पहाड़ के घरों में ही रहकर स्वरोगार को अपनाने का आह्वान किया। सीएम ने कहा कि इसके लिए राज्य सरकार ने सौ ग्रोथ सेंटरों की भी शुरूआत की है। शीघ्र ही ग्रोथ सेंटर बेहतर ढंग से कार्य कर सकेंगे। जिससे युवाओं को इसका प्रत्यक्ष लाभ प्राप्त हो सकेगा। साथ ही वीर चद्र सिंह गढ़वाली स्वरोजगार योजना की दायरे को भी बढ़ाया गया है। पहले बीस प्रतिशत अनुदान दिया जाता था जिसे बढ़ाकर अब पचास प्रतिशत किया गया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की भौगोलिक आधार के अनुसार ही अधिक से अधिक लोगों को रोजगार दिये जाने के लिए कार्ययोजना तैयार की गई है।

कोरोना से बचने को सामाजिक दूरी जरूरी
सीएम त्रिवेन्द्र्र ंसह रावत ने कहा कि सम्पूर्ण विश्व कोविड महामारी के दौर से गुजर रहा है। इस महामारी से बचाव के लिए हमें बहुत सतर्कता बरतने की जरूरत है। कोविड से बचाव के लिए जो भी गाईडलाइन जारी हो रही है, उसका सबको पूरा पालन करना होगा। इस बीमारी से बचाव के लिए सामाजिक दूरी एवं मास्क का प्रयोग बहुत जरूरी है।

उत्तराखंड में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं
सीएम त्रिवेन्द्र्र ंसह रावत ने कहा कि देवभूमि उत्तराखंड में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं भी हैं। उत्तराखंड विभिन्न प्रकार की जैव विविधता वाला राज्य है। हिमालय की जड़ी बूटियों के उत्पादों से हम हिमालयी ब्रांडो की मार्केटिंग कर सकते हैं। उन्होंने युवाओं से सौर ऊर्जा के क्षेत्र, मुर्गी, पशुपालन व मत्स्य पालन के साथ ही भांग आधारित कृषि करने का आह्वान किया। सीएम ने कहा कि इसके लिए सरकार की ओर से ऋण आदि की व्यवस्था की जा रही है। जिससे के उस क्षेत्र के अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार प्राप्त हो सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!