राहुल गांधी ने लॉकडाउन को बताया फेल तो प्रकाश जावड़ेकर ने साधा निशाना

Spread the love

नई दिल्ली, एजेन्सी। कांग्रेस नेता राहुल गांधी की तरफ से मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने पर केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उन पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस वक्त पूरा देश कोविड-19 की चुनौतियों का सामना कर रहा है, यह उदाहरण है कि किस तरह से कांग्रेस पार्टी कोरोना संक्रमण पर राजनीति कर रही है। जावड़ेकर ने कहा, “उन्होंने गलत बयान दिया है, मैं उनसे कहना चाहता हूं कि जब लॉकडाउन लागू किया गया था उस समय 3 दिन में कोरोना संक्रमण की दर दोगुनी थी। अब इस संक्रमण की दर 13 दिनों में दोगुनी हो रही है। यह भारत और हर व्यक्ति की सफलता है।”
जावड़ेकर बोले- कांग्रेस कर रही दोमुंही बातें
केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा कि कांग्रेस दोमुंही बातें कर रही है और ऐसे वक्त में जब कोरोना संक्रमण को रोकने में दुनिया भारत के कदमों की तारीफ कर रही है, कांग्रेस पार्टी सिर्फ सरकार के फैसलों का आलोचना करती आ रही है। उन्होंने कहा, “जब लॉकडाउन लागू किया गया था, कांग्रेस इसलिए दुखी थी कि क्यों इसे पूरे देश में लगाया गया है, इससे देश की अर्थव्यवस्था बर्बाद हो जाएगी। उन्होंने लॉकडाउन का विरोध किया था और अब वे लॉकडाउन में छूट का विरोध कर रहे हैं। यह उनकी दोमुंही बातें है।”
उन्होंने कहा, ” अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, स्पेन, इटली, इरान, ब्राजील और चीन के मुकाबले में भारत इससे कम प्रभावित रहा है और पूरी दुनिया भारत की तारीफ कर रही है कि उसने सही समय पर लॉकडाउन लागू किया।” जावड़ेकर ने इस आरोप को खारिज कर दिया कि सरकार प्रवासी कामगारों के मुद्दे पर विफल रही और कहा कि सरकार की तरफ से 3 हजार स्पेशल ट्रेनों में 3 लाख कामगारों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाया गया है।

लॉकडाउन पर क्या बोले राहुल गांधी?
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में चार चरणों में लगाए गए लॉकडाउन का लक्ष्य पूरा नहीं होने का दावा करते हुए मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि ‘विफल लॉकडाउन के बाद अब कोरोना संकट से निपटने और जरूरतमंदों को मदद देने के लिए उनकी रणनीति क्या है?
उन्होंने यह भी कहा कि अगर गरीबों, मजदूरों और छोटे एवं मझोले कारोबारों की तत्काल मदद नहीं की गई तो यह घातक साबित होगा और ऐसे में केंद्र सरकार को देश के आर्थिक रूप से कमजोर 50 प्रतिशत लोगों (13 करोड़ परिवार) को तत्काल 7500 रुपये मासिक की नकद सहायता तथा राज्यों को उचित मदद करनी चाहिए।
गांधी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संवाददाताओं से कहा, ”मोदी जी ने 21 दिन में कोरोना की लड़ाई जीतने की बात कही थी। लगभग 60 दिन हो चुके हैं। हिंदुस्तान पहला देश है, जो बीमारी के बढ़ने के बाद लॉकडाउन हटा रहा है। दुनिया के बाकी देशों ने लॉकडाउन तब हटाया, जब बीमारी कम होनी शुरू हुई। उन्होंने दावा किया, ” ऐसे में ये स्पष्ट है कि हमारे यहां लॉकडाउन विफल हो गया है। जो लक्ष्य मोदी जी का था, वो पूरा नहीं हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!